“कस्तूरबा गाँधी विद्यालय की लड़कियों से नहीं मिलती तो ज़िंदगी में बहुत कुछ सीखना रह जाता”

पहली बार कस्तूरबा विद्यालय में रुकने का मौका मिला

  • बच्चियों को बेहतर जानना
  • उनका आपसी सम्बन्ध समझना और
  • शिक्षक व बच्चियों के एक दूसरे के प्रति स्वभाव पर ध्यान देना।

विनीता से मेरी पहली मुलाकात

लड़कियों के लिए आज भी जीवन आसान नहीं

सोने से पहले ललिता से बातें

--

--

--

Explorer | Reflector | Learner | Writing - the unheard voice and sharing stories that matter.

Love podcasts or audiobooks? Learn on the go with our new app.

Get the Medium app

A button that says 'Download on the App Store', and if clicked it will lead you to the iOS App store
A button that says 'Get it on, Google Play', and if clicked it will lead you to the Google Play store
Aditi

Aditi

Explorer | Reflector | Learner | Writing - the unheard voice and sharing stories that matter.

More from Medium

Hygienic resources for our unhoused neighbors of San Jose

Help People Think Better, Don’t Tell Them What to Do!

🌾 RICE I 2022 UPDATE №2

GPS Riding CFO attends VivaTech 2022 in Paris